Categories Breaking NewsChhattisgarhअंबिकापुर जिला

मुर्गा व्यवसायी ने साथियों के साथ पुलिस से की गुंडागर्दी, कहा- वर्दी में नहीं होते तो पीट देते

अंबिकापुर :-  ड्यूटी जा रहे प्रधान आरक्षक द्वारा एक वाहन चालक को थूकने से मना किया गया तो वाहन मालिक व मुर्गा व्यवसायी ने उसके साथ गाली-गलौज शुरू कर दी। मुर्गा व्यवसायी ने यहां तक कहा कि यदि वह वर्दी में नहीं होता वह उसे पीट देता। उसने यह भी कहा कि यदि वह ऐसा नहीं करेगा तो उसका नाम सरजू नहीं।

इस पर प्रधान आरक्षक ने भी अपनी वर्दी उतारनी शुरु कर दी। इसी बीच इसकी वीडियो किसी ने सोशल मीडिया पर वायरल कर दी। प्रधान आरक्षक ने इसकी शिकायत कोतवाली में की है। लेकिन अभी तक संबंधित व्यक्तियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

अंबिकापुर के मणिपुर चौकी में प्रधान आरक्षक के पद पर पदस्थ सतीश सिंह विजयादशमी पर ड्यूटी करने के बाद पुलिस लाइन स्थित अपने घर गया। घर से वह ड्यूटी जाने के लिए निकला था। मेरिन ड्राइव तालाब के समीप पहुंचा ही था कि इसी दौरान मुर्गा लोड कर छोटा हाथी वाहन का चालक उधर से गुजर रहा था। वाहन चालक ने बिना देखे ही वाहन के बाहर थूक दिया।

इससे उस मार्ग से गुजर रहे प्रधान आरक्षक की वर्दी व शरीर पर थूक के छींटे पड़ गए। इस पर वाहन चालक को रोककर प्रधान आरक्षक ने उसे ऐसा नहीं करने को कहा और वर्दी खराब होने की बात कही। प्रधान आरक्षक द्वारा मना किए जाने पर वाहन चालक ने उसके साथ बदत्मीजी शुरू कर दी। इस पर उसने फटकार भी लगाई। तब तक इसकी जानकारी वाहन मालिक विजय गुप्ता को भी हो गई। वह मेरिन ड्राइव के मुर्गा व्यवसायी छोटू, सरजू साहू व अन्य के साथ वहां पहुंचकर विरोध शुरू कर दिया।

बात यहां तक बढ़ गई कि मुर्गा व्यवसायियों ने प्रधान आरक्षक को कहा कि आज बिना वर्दी के होते तो तुम्हें जमकर पीटते। इस बात पर प्रधान आरक्षक वर्दी उतारने लगा। इसी दौरान किसी ने अपने मोबाइल पर घटना का वीडियो भी बनाया और वायरल कर दिया।

वीडियो वायरल होने के बाद प्रधान आरक्षक ने घटना की जानकारी कोतवाली में की। उन्होंने आवेदन में कहा है कि आरोपियों पर कार्रवाई करने व वीडियो वायरल करने वालों पर भी कार्रवाई की मांग की है। लेकिन अभी तक पुलिस द्वारा संबंधित व्यक्तियों के खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं की गई है।

चालक ने की थी कुचलने की कोशिश
वाहन चालक को जब प्रधान आरक्षक द्वारा थूकने से मना किया गया तो वह इतना नाराज हो गया कि उसने प्रधान आरक्षक की बाइक को छोटा हाथी वाहन से कुचलने का प्रयास किया। प्रधान आरक्षक की किस्मत अच्छी थी कि वह बच गया।

 

About the author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *