Categories Breaking Newsछत्तीसगढ़

क्या कमल के भरोसे खिल पायेगा खरसिया नगर के 18 वार्डो में कमल

🌷क्या कमल के भरोसे खिल पायेगा खरसिया नगर के 18 वार्डो में कमल❓❓

🌷ओ पी चौधरी के जीत के लिए जरूरी है खरसिया नगरपालिका क्षेत्र में बीजेपी की बढ़त।

#पर्दाफाश #एडिटर – #आरती #वैष्णव की खास रिपोर्ट.…(8889928259)

🚨खरसिया* खरसिया विधानसभा में बीजेपी विधायक प्रत्यासी के लिए पूर्व कलेक्टर ओ पी चौधरी का नाम चर्चा में आते ही खरसिया विधानसभा सीट पूरे भारत देश मे हॉट सीट हो चुका है । पूर्व में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह, अविभाजित मध्यप्रदेश के बीजेपी अध्यक्ष लखीराम अग्रवाल, बीजेपी के राष्ट्रीय नेता दिलीप सिंह जूदेव,पूर्व गृहमंत्री मध्यप्रदेश/छत्तीसगढ़ ,पीसीसी अध्यक्ष नंदकुमार पटेल,पूर्व खनिज निगम अध्यक्ष गिरधर गुप्ता,वर्तमान बीजेपी जिला अध्यक्ष जवाहर नायक जैसे दिग्गज चुनाव लड़ चुके है यह सीट अपने स्थापना काल से ही कांग्रेस एवं बीजेपी के लिए नाक का सवाल बना हुआ है । जहां लगातार जीत हासिल करने के कारण खरसिया विधानसभा में कांग्रेस की जीत बरकरार रखना कांग्रेस में बड़ी चुनौती है वहीं बड़े – बड़े दिग्गजों को खरसिया से आजमा चुकी बीजेपी ने अब खरसिया विधानसभा के लिए रायपुर के पूर्व कलेक्टर ओ पी चौधरी के रूप में अपना ब्रम्हास्त्र के रूप में उतारा है ।

*🔴खरसिया नगरपालिका क्षेत्र में वर्तमान बीजेपी की कमेटी इसलिए खरसिया में बीजेपी को उम्मीद ज्यादा*
खरसिया नगरपालिका में पूर्व में सुनील गर्ग ने कांग्रेस के टिकट से नगरपालिका अध्यक्ष का चुनाव लड़ा था जिसने नगरीय प्रशासन मंत्री के भाई कमल अग्रवाल बसन्ती को हराया था बाद में वो बीजेपी में शामिल हो गए थे। गत नगरपालिका चुनाव में कमल गर्ग ने कांग्रेस के सुनील शर्मा को लगभग 4 हजार मतों से हराया था । चुनाव के वक्त कमल गर्ग ने खरसिया को क्लीन खरसिया ग्रीन खरसिया सहित न खाऊंगा न खाने दूंगा जैसे नारो के भरोसे जीत प्राप्त किया था । लेकिन अपने जीत के बाद कमल गर्ग की पूरी कमेटी सिर्फ कुछ क्षेत्र विशेष के ही सफाई एवं विकास करने में लगी रही । कमल गर्ग के ऊपर यह भी आरोप कांग्रेसियों ने खूब लगाया कि पहले सुनील गर्ग ने नगरपालिका में परिवारवाद चलाया उसके बाद कमल गर्ग के पूरे कार्यकाल में मात्र एक परिवार विशेष का कब्जा रहा है खरसिया नगरपालिका क्षेत्र में चाहे आडोटोरियम का निर्माण हो,काम्प्लेक्स का निर्माण हो या फिर करोड़ो की लागत से सड़कों एवं नालियों का निर्माण सिर्फ अपने परिवार के लोगों को ही अपने निजी स्वार्थ के कारण ठेका दिलाया एवं जमकर भ्रस्टाचार एवं बंदरबाट किया है तालाबो के सफाई का कार्य हो अथवा शौचालय का निर्माण अथवा प्रधानमंत्री आवास का कार्य कोई एक दो पार्षदों को छोड़ दे बाकी सभी ने जिसको जितना मौका मिला लोगों को जमकर लूटा कभी किसी गरीब मोहल्लों में नही गए । कमल गर्ग विधानसभा चुनाव की तैयारियों में खुद के टिकट के जोडतोड़ में ईतने व्यस्त हो गए कि उन्होंने कभी आम जनता के बीच जाने के बारे में सोंचा ही नही।

*🔴कमजोर कांग्रेस प्रत्यासी एवं पैसों के दम पर पाई लीड को कमल गर्ग समझने लगे अपनी लोकप्रियता*

वर्तमान चुनाव में कमल गर्ग एवं अधिकतर वार्डो में पार्षदों का जमकर विरोध है कारण प्रदेश में नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल का गृहनगर होने के बावजूद बुनियादी सुविधाओं का आभाव एवं स्थानीय पार्षदों एवं अध्यक्ष,उपाध्यक्ष की लापरवाही कहे या फिर आम जनता से रूखा व्यवहार आम जनता से अध्यक्ष,उपाध्यक्ष सहित पार्षदों को दूर करती है।

*🔴10 विफलता जिससे कमल गर्ग के प्रति है वार्डो में आक्रोश*

*1🎴* खरसिया रेल्वे स्टेशन गुड साइडिंग में अवैध रूप से संचालित कोयला साइडिंग पर मौन सहमति प्रदूषण के कारण वार्ड 9,10,11,12, के हजारों परिवारों के सामने प्रदूषण दमा, अस्थमा,टीबी,ध्वनि प्रदूषण की समस्या ।

*2🎴* नगरपालिका में ठेकेदारी में भाई भतीजा वाद को बढ़ावा देते हुए अपने परिवारों एवं रिश्तेदारों को ठेका दिलाने तथा भ्रस्टाचार को बढ़ावा देने के कारण शहर में घटिया निर्माण एवं जनता के टैक्स के पैसों का बंदरबाट किया गया ।

*3🎴* खरसिया नगरपालिका अंतर्गत सबसे प्राचीन स्कूल बालमंदिर , आदर्श स्कूल,एकमात्र कन्या स्कूल ,नवीन स्कूल के जर्जर भवन के प्रति लापरवाही एवं एकमात्र पुत्री शाला स्कूल को स्थानीय व्यापारियों को लाभ पहुंचाने गोदाम हेतू प्रदान करना । जबकि खरसिया नगरपालिका की बेशकीमती जमीन एवं भवन पर नेशनल कान्वेंट स्कूल एवं शंकराचार्य स्कूल का कब्जा है।

*4🎴* ठाकुरदिया में स्वीकृत बहुप्रतीक्षित काँजी हाऊस का निर्माण टेंडर होने के बावजूद अपने कुछ पार्षदों के निजी दुश्मनी के कारण उक्त भवन निर्माण की लगभग 20 लाख की राशि का दुरुपयोग किया गया।

*5🎴* अमीर लोगों के उपयोग में आने वाले महुआपली रोड मुक्तिधाम को स्वर्ग की तरह किन्तु गरीब मोहल्लों में स्थित सँवरा समाज के मुक्तिधाम (बंधवा तालाब पार) महंत समाज के मुक्तिधाम पुरानी बस्ती,लखीराम आडोटोरियम के सामने ठाकुरदिया के संरक्षण एवं शौन्द्रीयकर्ण के प्रति भेदभाव पूर्ण रवैया ।

*6🎴* खरसिया सिविल अस्पताल जो कि पूर्ण तरीके से धर्मशाला के रूप मे परिवर्तित हो गया है जहां न तो डॉक्टर है न ही कोई ईलाज की समुचित व्यवस्था ।

*7🎴* खरसिया शहर के तालाबों के शौद्रीयकरन के प्रति कोई ध्यान नही जबकि सिर्फ ठेकेदारी के माध्यम से लाभ लेने के लिए सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों की अवहेलना करते हुए तालाब पार हमाल पारा में शौन्द्रीयकरण के नाम पर जल भराव के जगह को पाट के रकबा कम कर दिया गया है। जबकि गरीब मोहल्लों खंती तालाब,दर्री तालाब,हल्का तालाब ,पनखतिया तालाब की साफ-सफाई के प्रति कोई ध्यान नही जबकि हजारों लोगों का निस्तारी उक्त तालाबों में होता है।

*8🎴* शौचालय निर्माण में व्यापक भ्रस्टाचार लोगों की नाराजगी की मुख्य वजह केंद्र सरकार की महत्वपूर्ण योजना स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत शौचालय निर्माण के लिए नगरपालिका के पार्षदों एवं एल्डरमैन सहित बीजेपी खरसिया नगरमंडल के प्रमुख पदाधिकारियों ने जमकर घोटाला किया है अभी भी सैकड़ो परिवार को शौचालय बनाने के बाद भुगतान नही मिल सका है तो सैकड़ो परिवार आज भी अधूरे शौचालय के बीच खुले में सौच करने मजबूर है।

*9🎴* साल के 9 माह लोग रहते है पेयजल कर लिए परेशान कहने को तो करोड़ो की लागत से जल आवर्धन योजना के तहत जल प्रदाय की व्यवस्था है लेकिन खरसिया नगरपालिका अध्यक्ष एवं पार्षदों के सांठगांठ से कांग्रेसी ठेकेदार द्वारा संचालित ठेका पद्धति एवं घोर लापरवाही के कारण लोगों को नल से पेयजल समस्या का सामना करना पड़ता है तो गरीब मोहल्लों के दर्जनों बोर खराब होने पर जलकर एवं सम्पत्ति कर पटाने के बावजूद आम जनता को चन्दा करके बिगड़े बोर बोरिंग का मरम्मत कराना पड़ता है।

*10🎴* सैकड़ो परिवार आज भी बिना पक्का घर के झोपड़ियो एवं पन्नियों में जीवन यापन करने मजबूर खरसिया के 70 ℅ गरीब मतदाताओं के वोटों के दम पर नगरपालिका अध्यक्ष की लग्जरी कुर्सी का आनंद लेने वाले अध्यक्ष के लापरवाही के कारण खरसिया शहर के विभिन्न इलाकों में लगभग 50 वर्षो से काबीज निवासरत लोगों का मकान आबादी घोषित नही होने के कारण लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नही मिला है । सैकड़ो लोगों के द्वारा पात्रता होने के बावजूद वास्तविक गरीब लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नही मिल पाया है पुरानी बस्ती सँवरा मोहल्ला एवं वार्ड 12 गंजपिछे दर्जनों लोग जर्जर पन्नी ढके घरौदों में रहने मजबूर है।

खरसिया नगरपालिका के पुराने अध्यक्ष के कार्यकाल के कार्यों को अपना विकास बता के रुपयों के दम पर हासिल वोटों को अपनी लोकप्रियता बताने वाले कमल गर्ग नगरपालिका अध्यक्ष के भरोसे खरसिया 18 वार्डो में बीजेपी का कमल बहुमत से खिलाने की तैयारी कहीं महंगी न पड़ जाये ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *