Categories Breaking Newsछत्तीसगढ़रायगढ़

झारखंड से 20 मजदूर किए गए बंधक से मुक्त**🛑खरसिया पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी***🛑केबिनेट मंत्री उमेश पटेल के निर्देश पर रायगढ़ कलेक्टर एवं पुलिस कप्तान ने बंधकों को छुड़ाया*

*🛑भूपेन्द्र किशोर वैष्णव की ग्राउंड रिपोर्ट📱9754160816📱Email:-amannews71@gmail. com*
*खरसिया/रायगढ़*
खरसिया पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी झारखंड से मुक्त कराए गए 20 मजदूर
खरसिया तहसील के ग्राम गाडाबोरदी  एवं जांजगीर जिले के विभिन्न स्थानों से ईट भट्ठे में काम करने के लिए झारखंड के जमशेदपुर जिला अंतर्गत बारांबाकी में मुन्ना ईट भट्ठा में काम करने वाले मजदूरों को लगभग साढे 3 महीने बिना मजदूरी भुगतान किए काम कराए जाने एवं बंधक बनाए जाने की शिकायत खरसिया थाने में दर्ज कराई गई थी । जिस पर खरसिया विधायक एवं रायगढ़ जिले के प्रभारी मंत्री उमेश पटेल के निर्देश पर रायगढ़ कलेक्टर यशवन्त कुमार एवं पुलिस कप्तान राजेश अग्रवाल के द्वारा एक टीम बनाकर उक्त मजदूरों को बंधक मुक्त कराने झारखंड भेजा गया था । खरसिया थाना में पदस्थ उप निरीक्षक नंद कुमार मिश्रा के साथ चार अन्य आरक्षकों की टीम रवाना की गई थी।  जिनके द्वारा झारखंड प्रदेश के जमशेदपुर जिले में बारांबाकी  मुन्ना ईट भट्ठा में बिना मजदूरी के काम करने वाले एवं  बंधक मजदूरी करने वाले मजदूरों सहित उनके परिवार के कुल बीस लोगों को खरसिया पुलिस के द्वारा वापस छत्तीसगढ़ लाया गया जहां खरसिया सिविल अस्पताल में डॉक्टरी चिकित्सा पश्चात उन मजदूरों को उनके घरों तक छोड़ा गया । खरसिया थाना में पदस्थ उप निरीक्षक नंद कुमार मिश्रा ने मीडिया को बताया की खरसिया के गांड़ाबोरदी  में रहने वाले परिवार के सदस्यों को झारखंड में बंधक बना दिए जाने के संबंध में खरसिया थाना में रिपोर्ट दर्ज कराया गया था जिस पर संज्ञान लेते हुए खरसिया विधायक एवं कैबिनेट मंत्री उमेश पटेल के द्वारा रायगढ़ कलेक्टर यशवंत कुमार तथा पुलिस कप्तान राजेश अग्रवाल को तत्काल मामले की गंभीरता को देखते हुए उक्त बंधक मजदूर परिवारों को बंधक मुक्त कराने झारखंड भेजने निर्देश दिया गया जिस पर मामले की गंभीरता को देखते हुए रायगढ़ कलेक्टर एवं पुलिस कप्तान के द्वारा खरसिया थाना में पदस्थ एस आई नंद कुमार मिश्रा के नेतृत्व में 5 सदस्य टीम बनाकर तत्काल उक्त मजदूरों को बंधक मुक्त कराने झारखंड भेजा गया जहां 2 दिनों के कड़ी मशक्कत के बाद खरसिया पुलिस के द्वारा जमशेदपुर पुलिस की सहायता से इन मजदूरों को मुन्ना ईट भट्ठा से बंधक मुक्त करा कर खरसिया वापस लाया गया । जहां डॉक्टरी जांच पश्चात उक्त मजदूरों एवं उनके परिजनों को उनके घरों तक छोड़ा गया । खरसिया पुलिस के द्वारा किए गए उक्त कार्य की प्रशंसा की जा रही है।
*📱आखिर क्यों करते है लोग पलायन..?*
आखिर छत्तीसगढ़ से लोग क्यों करते हैं पलायन यह सवाल भी उठ रहे है। राज्य सरकार के द्वारा लगातार मजदूरों एवं गरीबों के लिए अनेकों कल्याणकारी योजनाओं का संचालन किए जाने की बात कही जा रही है। इसके बावजूद छत्तीसगढ़ के अधिकतर मजदूर एवं गरीब वर्ग के लोग रोजी रोटी की तलाश में कभी झारखंड तो कभी जम्मू कश्मीर कभी आंध्र प्रदेश की तरफ जाते है। जहां स्थानीय दलालों के द्वारा उन्हें ज्यादा मजदूरी का प्रलोभन दिया जाता है लेकिन मजदूरों को बाहर काम दिलाने के नाम पर दलालों की जेब तो जरूर भर जाती है किंतु रोजी मजदूरी कर अपना पसीना बहाकर अपना परिवार पालने एवं कुछ ज्यादा कमा लेने की लालसा में अपना घर द्वार छोड़ने वाले इन मजदूरों के हिस्से में परेशानी के अलावा कुछ भी नहीं आता  है।इससे पहले भी पूर्व कलेक्टर ओपी चौधरी द्वारा खरसिया के ग्राम तेलीकोट के दर्जनों परिवारों को आंध्र प्रदेश से बंधक मुक्त कराया गया था लेकिन जब स्थानीय सरकार के द्वारा गरीबों एवं मजदूरों के लिए सैकड़ों योजनाओं का क्रियान्वयन किए जाने का दावा किया जाता है । तो फिर आखिर साल के 6 महीनों तक इन मजदूरों को रोजी रोटी की तलाश में अपना घर द्वार छोड़कर दूसरे प्रदेश का रुख क्यों करना पड़ता है यह एक बड़ा सवाल है । खासकर जांजगीर जिले से भारी संख्या में मजदूर प्रतिवर्ष खरसिया रेलवे स्टेशन के माध्यम से पलायन करते है । ऐसे में सरकार के सारे दावे खोखले नजर आते हैं आखिर कब तक इन मजदूरों का शोषण अपने स्वयं के प्रदेश एवं अन्य प्रांतों में ज्यादा रोजी-रोटी दिलाने के नाम पर चलता रहेगा यह एक बड़ा सवाल है । यदि समय रहते इन गरीब मजदूरों के लिए कोई ठोस योजना नहीं बनाई जाती तो लगातार मजदूरी के नाम पर इन मजदूरों का शोषण यूं ही चलता रहेगा एक बड़ा सवाल है ।
*🖊झारखंड के बाराबांकी जमशेदपुर से बन्धकमुक्त मजदूरों की सूची✒*
*दिव्या भारद्वाज पति योगेश भारद्वाज उम्र 24 वर्ष निवासी गाड़ाबोरदी, माधव जोल्हे पिता देवनारायण जोल्हे उम्र 42 वर्ष निवासी छोटे मुड़पार, महिमा जोल्हे पति माधव जोल्हे उम्र 40 वर्ष छोटे मुड़पार, झूलबाई पति धरम लाल रात्रे किरकार जांजगीर चाम्पा, बुधबाई पति श्यामलाल सोनवानी उम्र 38 वर्ष अंडा जांजगीर चाम्पा, धरम लाल पिता रामलाल रात्रे 33 किरकार जांजगीर चाम्पा, रितेश रात्रे पिता धरमलाल रात्रे 05 वर्ष किरकार जांजगीर चाम्पा, साथीराम पिता परदेशी राम चौहान 38 वर्ष फगुरम जांजगीर चाम्पा, सोनीबाई चौहान पति साधीराम चौहान उम्र 58 वर्ष ग्राम जांजगीर चांपा, जगदीश प्रसाद पिता सियाराम चौहान उम्र 32 वर्ष फगुरम जांजगीर चांपा, सुकवारा बाई पति जगदीश प्रसाद उम्र 30 वर्ष फगुरम जांजगीर चाम्पा, मानसी कुमारी चौहान पिता जगदीश 30 वर्ष फगुरम जांजगीर चाम्पा, कीरित राम रात्रे पिता अनंत राम रात्रे 51 फगुरम जांजगीर चाम्पा, राहुल रात्रे पिता कीरित राम रात्रे उम्र 14 वर्ष फगुरम जांजगीर चाम्पा, रसिया टंडन पिता उदयराम टंडन 35 वर्ष फगुरम जांजगीर चाम्पा, राधिका टंडन पति रसिया टंडन उम्र 30 वर्ष साकिन फगुरम जांजगीर चाम्पा, महेश टण्डन पिता रसिया टंडन उम्र 10 वर्ष फगुरम जांजगीर चाम्पा, अमरुद जोल्हे पिता मुनुराम जोल्हे उम्र – 24 वर्ष फगुरम जांजगीर चाम्पा, सुकिता जोल्हे पति अमरुद जोल्हे उम्र 22 वर्ष फगुरम जांजगीर चाम्पा, मुनसु राम ओगर पिता घुरवा राम उम्र 25 वर्ष अड़भार जांजगीर चाम्पा छत्तीसगढ़*
3 Attachments