रिलायंस रीटेल में हिस्सेदारी खरीद सकता है अमेज़ॉन- प्रेस रिव्यू

रिलायंस कंपनी के चेयरमैन मुकेश अंबानी

अख़बार इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक ख़बर के अनुसार रिलायंस के खुदरा व्यापार में 40 फीसदी हिस्सेदारी के बदले अमेज़ॉन 20 अरब डॉलर तक का निवेश कर सकता है.

अख़बार ने ब्लूमबर्ग के हवाले से लिखा है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज़ जियो प्लेटफॉर्म के लिए 20 अरब डॉलर का फंड जुटाने के बाद कंपनी अब रिलायंस रीटेल वेन्चर्स लिमिटेड में अमेज़ॉन को 40 फीसदी की हिस्सेदारी बेच सकता है.

क़रीब एक महीने पहले भारत की सबसे बड़ी खुदरा व्यापार कंपनी रिलायंस रीटेल ने फ्यूचर ग्रूप के खुदरा व्यापार को खरीद कर इस सेक्टर में अपनी स्थिति और भी मज़बूत कर ली थी.

ब्लूमबर्ग ने एक सूत्र के हवाले से रिपोर्ट छापी है कि इस संबंध में अमेज़ॉन और रिलायंस के बीच बातचीत जारी है. हालांकि सूत्र का कहना है कि अब तक इस पर कोई फ़ैसला नहीं हो पाया है और इस बात की संभावनाएं भी हैं कि किसी तय क़ीमत तक न पहुंच पाने की सूरत में से सौदा न हो.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार बाज़ार में इस ख़बर के आने के बाद रिलायंस कंपनी के शेयर में 7.14 फीसदी की बढ़त देखी गई. जिसके साथ ही कंपनी का बाज़ार मूल्य 15 लाख करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर गया और ऐसा करने वाली पहली कंपनी बन गई है.

बाज़ार मूल्य के मामले में रिलायंस के बाद दूसरे नंबर पर टेक्नॉलॉजी कंपनी टीसीएस है जिसका बाज़ार मूल्य 8.74 लाख करोड़ रुपये है. भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के नियमों के अनुसार विदेशी कंपनी देश की किसी मल्टी-ब्रांड खुदरा व्यापार में अधिकतम 51 फीसदी तक का निवेश कर सकती है.