नीतीश कुमार 7वीं बार बने बिहार के मुख्यमंत्री, इन लोगों ने ली मंत्री पद की शपथ

नीतीश कुमार 7वीं बार बने बिहार के मुख्यमंत्री, इन लोगों ने ली मंत्री पद की शपथ

News

पटना: बिहार के सियासी हलचल के बीच  नीतीश कुमार ने सातवीं बार  बिहार के 37वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। करीब 15 साल से बिहार में सत्ता की कमान संभाल रहे नीतीश कुमार ने एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की कुर्सी संभाली है। राज्यपाल फागू चौहान ने उन्हें पद और गोपनियता की शपथ दिलाई। डिप्टी सीएम पद के लिए बीजेपी की ओर से तार किशोर प्रसाद और उपनेता रेणु देवी ने शपथ लिया।   इस मौके पर गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी मौजूद रहे।

इन लोगों ने ली मंत्री पद की शपथ

– नीतीश कुमार के बाद बीजेपी विधायक तारकिशोर प्रसाद ने भी मंत्री पद की शपथ ली।

– बेतिया से बीजेपी विधायक रेणु देवी ने बिहार के मंत्री पद की शपथ ली।

– जेडीयू के विधायक विजय चौधरी ने भी मंत्री पद की शपथ ली। वह 2015 में बिहार विधानसभा के अध्यक्ष भी चुने गए थे।

– बिजेंद्र यादव ने ली मंत्री पद की शपथ, 8वीं बार जीता है विधानसभा चुनाव। वह नीतीश कुमार की पिछली सरकार में ऊर्जा मंत्री थे।

– सकरा से जेडीयू विधायक अशोक चौधरी ने बिहार के मंत्री पद की शपथ ली।

– तारकपुर विधानसभा से चुने गए जेडीयू विधायक मेवालाल चौधरी ने मंत्री पद की शपथ ली।

– फुलपरास विधानसभा सीट से जेडीयू विधायक शीला कुमारी ने मंत्री पद की शपथ ली। वह पहली बार विधायक चुनी गई हैं।

– कोटे से जीतन राम मांझी के पुत्र संतोष सुमन ने ली मंत्री पद की शपथ। विधान परिषद सदस्य हैं संतोष सुमन।

– VIP के मुकेश सहनी ने भी बिहार के मंत्री पद की शपथ ली। हालांकि वह विधानसभा चुनाव हार गए हैं।

– विधान परिषद सदस्य और बीजेपी नेता मंगल प्रसाद पांडेय ने मंत्री पद की शपथ ली। नीतीश कुमार की पिछली सरकार बिहार के स्वास्थ्य मंत्री थे।

– आरा से चौथी बार विधायक बने बीजेपी के अमरेंद्र प्रताप ने मंत्री पद की शपथ ली।

– राजनगर से दूसरी बार विधायक चुने गए बीजेपी के रामप्रीत पासवान ने मंत्री पद की शपथ ली। रामप्रीत पासवान ने मैथिली में ली शपथ।

– दरभंगा के जाले विधानसभा से दूसरी बार विधायक बने बीजेपी के जिवेश कुमार ने मंत्री पद की शपथ ली।

– औराई विधानसभा से दूसरी बार विधायक बने बीजेपी के राम सूरत राय ने भी मंत्री पद की शपथ ली।

बिहार में सत्ता विरोधी लहर और विपक्ष की कड़ी चुनौती के बावजूद सत्ताधारी एनडीए गठबंधन ने शानदार जीत दर्ज की है। भले ही इस बार चुनाव में जेडीयू का प्रदर्शन पहले जैसा नहीं रहा और उसे 2015 विधानसभा चुनाव में मिली 71 सीटों के मुकाबले इस बार महज 43 सीटें ही आई हैं। बावजूद इसके एनडीए विधायक दल के नेता के रूप में नीतीश कुमार चुने गए।

इसके पहले नीतीश कुमार बिहार की सत्ता की अगुआई 6 बार कर चुके हैं और ये सातवां मौका है जब वो एक बार फिर से मुख्यमंत्री बने हैं।